Browse:
660 Views 2018-02-22 05:46:46

गणपति को घर या दुकान पर ला रहे हैं तो भूले नहीं ये बातें

अगर आपके घर में नहीं मिलती आपको शांति। अगर आपका घर सुंदर है पर खुशहाल नहीं। बनते-बनते बिगड़ जाते हैं आपके काम। तो विघ्नहर्ता को लाइए अपने धाम। वास्तुदोष मिटाएंगे मंगलमूर्ति। अष्टविनायक गणपति बप्पा वास्तुदोष का भी नाश करते हैं। घर का मुख्य द्वार हो, पूजा स्थान, चौका हो या काम करने की जगह भगवान गणेश की पूजा से नष्ट हो जाती हैं सारी नाकारात्मक ऊर्जा। जरूरत है तो बप्पा को पूरे मन से पूजने की और विनायक को प्रसन्न करने के लिए किए गए उपायों की। बप्पा को घर या दुकान में लाने से पहले जानिए यह खास बातें।

कैसे शुभ हो सिद्धिविनायक का आगमन

  • गणेश जी की बहुत सारी मूर्तियां घर में न रखें।
  • बाईं तरफ सूंढ़ वाले गणपति की मूर्ति ही घर में लाएं।
  • गणेश जी की प्रतिमा में यह भी ध्यान रखें कि बप्पा सायुज और सवाहन हों।
  • घर में गणपति की बैठी मुद्रा में और दुकान या दफ़्तर में खड़े गणपति की मूर्ति या तस्वीर रखना शुभ माना जाता है।
  • विनायक को कभी तुलसी के पत्ते न चढ़ाएं।

गणपति कैसे संवारेंगे आपकी किस्मत

  • बच्चों के कमरे में पीले या हल्के हरे रंग की गणेश की प्रतिमा शुभ होगी।
  • सोने के कमरे में विनायक की प्रतिमा कतई ना रखें।
  • घर के मुख्य द्वार पर अंदर की तरफ ही गणेश की प्रतिमा लगाएं, बाहर की तरफ नहीं।
  • रोज सुबह बप्पा को दूब चढ़ाएं।
  • घर के मेन गेट पर गणपति की दो मूर्ति या चित्र लगाने चाहिए। उन्हें ऐसे लगाएं कि दोनों गणेश जी की पीठ मिली रहे।

वास्तुदोष निवारक गणपति

  • क्रिस्टल के बने गणेश जी को वास्तुदोष दूर करने में बहुत कारगर माना जाता है।
  • क्रिस्टल के बने गणेश जी और लक्ष्मी जी की पूजा धन और सौभाग्य में वृद्धि करती है।
  • वास्तु के अनुसार गणेश जी को घर के ब्रह्म स्थान यानि (केंद्र) में पूर्व दिशा में एंव ईशान में विराजमान करना शुभ एंव मंगलकारी होती है।
  • गणेश जी को दक्षिण दिशा में नहीं रखना चाहिए।

गणेश मंत्र: तत्पुरुषाय विदमहे महादेवाय धिमहि।
तन्नो दंती प्रचोदयात।।

इस तरह से होते हैं गणपति प्रसन्न। इन छोटी-छोटी बातों पर गौर कर बनाएं अपने घर और व्यापार को सुंदर और खुशहाल। बप्पा के आशीर्वाद से आपके घर में भी आएगी सुख, शांति और समृद्धि।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*